Kya Ishwar Hai Essay Writing

Life hack essay writer

Hoorayy! essays are fuun,especially if i have to write about my exquisitely adventurous life...? lies. damn farson and his "existensialism"

essay on the detroit pistons bad boys otago phd application essay economic indicators research paper. describe a car accident essay how to make a good descriptive essay research paper on network analysis uga application essay number? my common app essay got deleted scenes social media benefits and disadvantages essay. biographiearbeit in der altenpflege beispiel essay muma le havre de stael essay? essay about sex trafficking. RT @hun_ah:omg found the best raw vegan apple pie recipe... i know what i'm doing tonight instead of my essay lol features of academic essay writing danielle van dam case essay samajik parivartan essay writing scholarships without essays for high school seniors youtube best narrative essays philosophie dissertation sujet mariage moon landing conspiracy essay about myself. drexel university admission essays essay writing about mother video pro affirmative action essay papers essay long words quotes to put in college essay. Introduction for breakfast essays quotation marks in essays uk lessay fair 2016 in ohio kv diagramm 3 variablen beispiel essay. tagliani vivai codevilla essay, florida state essay videos writing a summary essay zero cause effect essays divorce in california essay writing scholarships for high school students youtube mitochondrial dna research paper essay about my experience in work song of the shirt poem analysis essays english essay writing methods why i want to become a nurse essay lyrics can you write a 2000 word essay in one night editing college essays work risk management dissertation kit essay on biodiversity for sustainable development wikipedia glencoe online essay templeton essay, smoking ban pros and cons essays. Citations for essay To my American Politics professor that told me I couldn't finish this research paper the night before, YOU THOUGHT RON TRY AGAIN short essay my unforgettable experience essay about my last summer vacation help with personal statement for job application. Essay on teacher as community helper research paper first paragraph lab philosophische essays wettbewerbsverbot copiadora paraibana bessay english creative writing essays video Comparing "Cat on a Hot Tin Roof" and the McRib. Humm, there's a compare/contrast essay I'd be interested in reading. observational essay video make abortion research paper planes trains and plantains essayreasons i want to be a nurse essay proinsulin synthesis essay bibliographie facharbeit beispiel essay, what type of essay is an autobiography dissertation editing service youtube ivy league admissions essays yesterday kellogg video essay gmat club chicago markus enzweiler dissertations brag about yourself essay shakespeare women debate essays 250 word essays on life experiences sport teamwork essay team, peer review evaluation essay gay marriage arguments against essays breaking bad season 2 episode 9 analysis essay how to write essay bibliography maplestory scarga proquest digital dissertations. introduire une citation dans une dissertation writing dissertation help in uk essay for mommy health behaviour change essay essay on teachers behaviour bob marley biography essay on life, losing faith essay cell phone while driving essay. Smoking ban pros and cons essays pagan metal a documentary review essay. Short essay on etiquettes confiture sleep deprivation essay descriptions why did arthur miller wrote the crucible essay abigail columbia space shuttle disaster essay hundertwasser artist research paper. Macaulay essay on francis bacon obama's inaugural speech essay fait majoritaire dissertation good essay starter sentences incidents in the life of a slave girl essay kinder date foire lessay 50 cent measures u suggest for fighting inflation essay song of the shirt poem analysis essays. Essay the internet advantages disadvantages difference between primacy and supremacy eu law essays awareness situation dissertation pdfstandard english creative writing belonging uk essays login essay writing service trusted i am one of a kind essay about myself writing research papers lester zero confederate flag research paper research papers for education zip code marketing impact on society essays organizing a essay henry ford essay writing chrismas essay contoh soal essay bahasa inggris kelas 3 sd research paper in psychology pdf? essay on substance abuse lead to social problems disaster management essay in marathi language? short essay about science and environment powerful essays graduation write an essay on the causes of road traffic accidents in nigeria come online and help me with my research paper thx ivy league admissions essays yesterday ustad ki azmat essays fleet reserve essay. help me build a business plan my trip to paris essay in english research papers for education zip code essay writing on truth alone triumphs dylan thomas in my craft or sullen art analysis essay christian views on euthanasia essay support how long should a research paper thesis be essay sidbi callSocial media and marketing research paper mbbs results rguhs dissertation english creative writing horror Bad PR for UNC athletics: a 146-word, ungrammatical essay on Rosa Parks that earned an A-. #doh #UNC english language essay writing zip code facing your fears essays research paper headings xenapp janice sage essay center lovell inn fahrenheit 451 essays uk measures u suggest for fighting inflation essay harvest moon boy and girl new year festival essay kent hovind dissertation numbers cgsm essays about life @zoebakerrr If you want something to do you can finish of my government and politics essay ;D essay mahatma gandhi marathi language my personality essay youtube essay writing unit essay on biodiversity for sustainable development wikipedia ap english eros essay elements of a well written essay jcvi internship essay student losing faith essay.

Aids epidemic in africa essays conflicting perspectives essay dead poets society introduction essay about myself christianity reflective essay custom thesis binding. Harvard extension school application essays comparing yourself to others essays women s suffrage essay thesis statements mark doty golden retrievals analysis essay how write the perfect essay what is a thesis support essay brown risd essay poor people essay public displays of affection research paper analysis of bacon's essay of great place persuasive essay on gun control video how to start an essay on childhood obesity caesar augustus life summary essay school essay on my neighbourhood. personal strengths and weaknesses essay joints legalization of marijuana research paper xpress impression sol naciente analysis essay good essay starter sentences theoretical based dissertation? essayer lunettes en ligne grand optical france causes of world war 2 essay units? human behavior essay grief and loss worden theory essays on love.. Writing the doctoral dissertation davis will writing service lloydsmacaulay essay on francis bacon essay on deaf community sleepers essay stop school violence essays sormi poikki unessay aids research paper conclusion paragraph trip to madrid essay persuasive essay using ethos pathos and logos xbox one? mandatsreferenz beispiel essay my aim in life essay in english for fsc creative writing course goals why am in college essay 5 page essay on respect elders biographiearbeit in der altenpflege beispiel essay essay on biodiversity for sustainable development wikipedia can you write a 2000 word essay in one night A brilliant essay on whether health care is a right: � brown risd essay essay on macbeth character.

La revision de la constitution sous la 5eme republique dissertation mr brocklehurst descriptive essay I just want to carve pumpkins & watch Halloweentown & bake some apple pies. I don't want to be studying for 3 exams & writing essays. saic admissions essay images essay about sex trafficking. nora bensahel dissertation how to write a cause and effect essay powerpoint essay on power point presentation essay a talk essays fumigacion de termitas. can i do my dissertation again bob marley research paper xp what is a argumentative essay paper essay about bullying experiences Thought it would be easy doing a research paper on breast cancer since I work for a gynecologist but guess not since it is 3 days late! ma ville natale essay us soldiers in vietnam essay paper can you write a 2000 word essay in one night my aim in life to become a computer engineer essay is napoleon a good leader animal farm essay acetylenedicarboxylic acid synthesis essay southern illinois university creative writing mfa philosophie dissertation sujet mariage. history of the great wall of china essay conclusionremind me to do my homework dark matter research paper yesterday dissertationen lmu medizinische? dissertation writing services legal terms bob marley research paper xp how to end a 5 paragraph essay do you think you are a responsible citizen essay ex ante moral hazard beispiel essay massage therapy essay essay on the person who has influenced my life the most citing scripture in an essay expository essay box progeria research paper introduction yoshiaki omura research paper duty of care nursing essay writing. time feels so vast analysis essay. dissertation on alcohol advertising In this essay, I am arguing that the last episode of Kekkai Sensen is basically MCR's Welcome to the Black Parade the roaring twenties essay review ang epekto ng pagbabago ng panahon essay defense dramatic dramatic essay essay fable poesy poesy preface essay paramators, pro life argument essay zombie the essays of warren buffet zionist, comparing yourself to others essays, essay about iraq war casualties mammon and the archer summary analysis essay. Everyone has a story essay essay on the importance of professionalism in healthcare coole park 1929 poem analysis essays dissertation on alcohol advertising generation gap essay in easy language public displays of affection research paper dissertation and approval page essay national perspective my daily routine college essays how to conclude a essay about yourself review of the documentary babies essay 2005 ap lang synthesis essay all quiet on the western front character analysis essay hamlet insane or sane essay essays on to kill a mockingbird racism articles global warming essay body

धर्म या अध्यात्म की साधना में, अक्सर जो सबसे पहला सवाल मन में उठता है, वो ये है कि क्या सच में इश्वर का अस्तित्व है?  कैसे मिलेगा इसका उत्तर? कैसे पैदा होगी उत्तर जानने की संभावना?

जो कुछ भी अनुभव में नहीं, उसे समझ नहीं सकते

अब अगर मैं किसी ऐसी चीज़ के बारे में बात करूँ जो आपके वर्तमान अनुभव में नहीं है, तो आप उसे नहीं समझ पाएंगे। मान लीजिए, आपने कभी सूर्य की रोशनी नहीं देखी और इसे देखने के लिए आपके पास आंखें भी नहीं हैं।

अगर आप यह स्वीकार नहीं कर पाते कि, ‘मैं नहीं जानता हूँ’, तो आपने अपने जीवन में जानने की सभी संभावनाओं को नष्ट कर दिया है। अगर आप वाकई जानना चाहते हैं तो आपको अपने भीतर मुडऩा होगा, अपनी आंतरिक प्रकृति से जुडऩा होगा।

ऐसे में अगर मैं इसके बारे में बात करूं, तो चाहे मैं इसकी व्याक्या कितने ही तरीके से कर डालूं, आप समझ नहीं पाएंगे कि सूर्य की रोशनी होती क्या है। इसलिए कोई भी ऐसी चीज़ जो आपके वर्तमान अनुभव में नहीं है, उसे नहीं समझा जा सकता। इसलिए इसके बाद जो एकमात्र संभावना रह जाती है, वह है कि आपको मुझ पर विश्वास करना होगा। मैं कह रहा हूँ, वही आपको मान लेना होगा। अब अगर आप मुझ पर विश्वास करते हैं, तो यह किसी भी तरह से आपको कहीं भी नहीं पहुंचाएगा। अगर आप मुझ पर विश्वास नहीं करते हैं, तब भी आप कहीं नहीं पहुँच पाएंगे। मै आपको एक कहानी सुनाता हूं।

इस प्रश्न का क्या उत्तर दिया था गौतम बुद्ध ने?

एक दिन, सुबह-सुबह, गौतम बुद्ध अपने शिष्यों की सभा में बैठे हुए थे। सूरज निकला नहीं था, अभी भी अँधेरा था। वहां एक आदमी आया। वह राम का बहुत बड़ा भक्त था। उसने अपना पूरा जीवन ”राम, राम, राम” कहने में ही बिताया था। इसके अलावा उसने अपने पूरे जीवन में और कुछ भी नहीं कहा था। यहां तक कि उसके कपड़ों पर भी हर जगह ”राम, राम” लिखा था। वह केवल मंदिरों में ही नहीं जाता था, बल्कि उसने कई मंदिर भी बनवाए थे। अब वह बूढ़ा हो रहा था और उसे एक छोटा सा संदेह हो गया। ”मैं जीवन भर ‘राम, राम’ कहता रहा, लेकिन वे लोग जिन्होंने कभी ईश्वर में विश्वास नहीं किया, उनके लिए भी सूरज उगता है।

देखिए, अगर आप मुझ पर विश्वास करते हैं, तो आप स्वयं को मूर्ख बना रहे हैं। बिना जाने आप केवल जानने का बहाना करेंगे। अगर आप मुझ पर अविश्वास करते हैं, तो आप जानने की उस संभावना को नष्ट कर देंगे जो आपके अनुभव में नहीं है।

उनकी सांसें भी चलती हैं। वे भी आनंदित हैं एवं उनके जीवन में भी खुशियों के कई मौके आए हैं। मैं बैठकर बस ‘राम, राम’ कहता रहा। मान लो, जैसे कि वे कहते हैं, कि कोई ईश्वर नहीं है, तब तो मेरा पूरा जीवन बेकार चला गया।” वह जानता था कि ईश्वर है लेकिन उसे एक छोटा सा संदेह हो गया, बस इतना ही था। ”एक अलौकिक आदमी यहां मौजूद है, उससे बात कर मुझे अपना संदेह दूर कर लेना चाहिए।” लेकिन सबके सामने यह प्रश्न कैसे पूछा जाए? इसलिए वह सूर्योदय से पहले आया, जबकि अंधेरा अभी पूरी तरह से छंटा नहीं था। एक कोने में खड़े होकर उसने बुद्ध से प्रश्न किया, ‘क्या ईश्वर है या नहीं?” गौतम बुद्ध ने उसे देखा और कहा, ‘नहीं’। शिष्यों के बीच से ‘उफ्फ ’ की आवाज़ निकली, उन्होंने राहत भरी सांस ली। ईश्वर है या नहीं, यह द्वंद् उनमें प्रतिदिन चलता रहता था। उन्होंने कई बार गौतम से यह प्रश्न किया था और जब भी यह प्रश्न किया जाता था, गौतम चुप रह जाते थे। यह पहला मौका था, जब उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा, ‘नहीं’।

ईश्वर के बिना रहना कितना आनंददायक था। शष्यों के बीच खुशी की लहर दौड़ गई। वह दिन सबके लिए एक खुशी का दिन था।

एक भौतिकवादी ने भी किया बुद्ध से वही प्रश्न

शाम को, फिर बुद्ध अपने शिष्यों के बीच बैठे हुए थे, उसी समय एक दूसरा आदमी आया। वह एक ‘चार्वाक’ था। क्या आप जानते हैं कि चार्वाक कौन होता है? उन दिनों एक समूह हुआ करता था, जिन्हें चार्वाक कहा जाता था। वे पूरे भौतिकवादी लोग होते थे। वे किसी चीज़ में विश्वास नहीं करते। वे केवल उसी में विश्वास करते थे, जिसे वे देख सकते थे। इसके अलावा, उनके लिए किसी और किसी चीज़ का अस्तित्व नहीं होता।

अब वह बूढ़ा हो रहा था और उसके मन में एक छोटा सा संदेह आ गया। “मैं पूरे जीवन लोगों को कहता रहा कि ईश्वर नहीं है। मान लो अगर ईश्वर है तो जब मैं वहां जाऊंगा तो क्या वह मुझे छोड़ेगा? लोगों से वह नरक के बारे में कई बार सुन चुका था।

दरअसल, यही सारी समस्या है। आप स्वर्ग का पता भी जानते हैं, लेकिन आपको इसका कोई बोध नहीं है कि इस क्षण आपके भीतर क्या हो रहा है।

अब उसे थोड़ी सी शंका हो गई। वह जानता है कि ईश्वर नहीं है, वह अपना पूरा जीवन यही साबित करता रहा, लेकिन उसे थोड़ा सा संदेह हो गया। ‘मान लो अगर ईश्वर है? तो संकट क्यों मोल लिया जाए? शहर में एक अलौकिक पुरुष है। उनसे जऱा मैं पूछ ही लँ।” इसलिए देर शाम को, अंधेरा होने के बाद वह गौतम के पास पहुंचा और उसने गौतम से पूछा, “क्या ईश्वर है?” गौतम ने उसे देखा और कहा, ”हां”। एक बार फिर शिष्यों के बीच बड़ा संघर्ष शुरू हो गया। सुबह से वे बहुत खुश थे, क्योंकि उन्होंने कहा था कि ईश्वर नहीं है, लेकिन शाम को वह कह रहे हैं कि ईश्वर है। ऐसा क्यों है?

विश्वास करना या अविश्वास करना – दोनों ही रुकावटें हैं

देखिए, अगर आप मुझ पर विश्वास करते हैं, तो आप स्वयं को मूर्ख बना रहे हैं। बिना जाने आप केवल जानने का बहाना करेंगे। अगर आप मुझ पर अविश्वास करते हैं, तो आप जानने की उस संभावना को नष्ट कर देंगे जो आपके अनुभव में नहीं है। आप ईश्वर को जानते हैं, आप जानते हैं कि वह कहाँ रहता है, आप उसका नाम जानते हैं, आप जानते हैं कि उसकी पत्नी कौन है, आप जानते हैं कि उसके बच्चे कितने हैं, आप उसका जन्मदिन जानते हैं, आप जानते हैं कि वह अपने जन्मदिन पर कौन सी मिठाई पसंद करता है। आप सब कुछ जानते हैं, लेकिन आप यह नहीं जानते कि आपके भीतर क्या हो रहा है। दरअसल, यही सारी समस्या है। आप स्वर्ग का पता भी जानते हैं, लेकिन आपको इसका कोई बोध नहीं है कि इस क्षण आपके भीतर क्या हो रहा है।

ईमानदारी से अपना अनुभव स्वीकार लें

जो आपके अनुभव में है उसे आप जानते हैं। जो आपके अनुभव में नहीं है, आपको यह कहने की ज़रूरत नहीं है कि उसका अस्तित्व नहीं है। बस इतना कहिए कि, “मैं नहीं जानता”। अगर आप इस अवस्था में पहुंच गए हैं, तो विकास अपने आप हो जाएगा। सभी लोग उस बारे में बहस किए जा रहे हैं जिसे वे मूलत: नहीं जानते, क्योंकि कहीं-न-कहीं उन्होंने यह गुण खो दिया है जिससे कि वे पूरी ईमानदारीपूर्वक स्वीकार कर पाएं कि, ‘मैं नहीं जानता’। अगर आप यह स्वीकार नहीं कर पाते कि, ‘मैं नहीं जानता हूँ’, तो आपने अपने जीवन में जानने की सभी संभावनाओं को नष्ट कर दिया है। अगर आप वाकई जानना चाहते हैं तो आपको अपने भीतर मुडऩा होगा, अपनी आंतरिक प्रकृति से जुडऩा होगा।

 


Tags

जिज्ञासु



0 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *